सिद्धू ने पाक आर्मी चीफ से गले मिलने पर दी सफाई, ‘सिर्फ झप्पी थी, राफेल डील नहीं की’

सिद्धू ने पाक आर्मी चीफ से गले मिलने पर दी सफाई, 'सिर्फ झप्पी थी, राफेल डील नहीं की'

सिद्धू ने पाक आर्मी चीफ से गले मिलने पर दी सफाई, ‘सिर्फ झप्पी थी, राफेल डील नहीं की’

आपको बता दे की पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान गए हैं. बुधवार यानी 28 नवंबर को पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर का शिलान्यास होना है. पाक प्रधानमंत्री इमरान ख़ान इसका शिलान्यास करेंगे. वाघा बॉर्डर के उस पार पाकिस्तानी रेंजर्स ने सिद्धू का स्वागत किया. वहां मौजूद पाक नागरिकों ने उनके साथ सेल्फ़ी भी ली. पाकिस्तान पहुंचकर सिद्धू ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने इमरान के शपथ समारोह में पाकिस्तान के आर्मी चीफ़ से गले मिलने को लेकर फिर सफ़ाई दी. सिद्धू ने कहा कि वो सिर्फ़ गले मिले थे कोई राफेल डील नहीं की थी. सिद्धू ने कहा कि जब दो पंजाबी मिलते हैं तो ऐसे ही मिलते हैं. बाजवा के गले लगने को लेकर भारत में सिद्धू की काफ़ी आलोचना हुई थी.

चार किलोमीटर लंबा यह गलियारा भारत के गुरदासपुर जिला स्थित डेरा बाबा नानक को पाकिस्तान में नारोवाल में गुरुद्वारा करतारपुर साहिब से जोड़ेगा. यह गलियारा भारतीय सिख तीर्थयात्रियों को गुरुद्वारे तक वीजा मुक्त पहुंच मुहैया कराएगा. उन्होंने कहा, ‘इससे दोनों देशों के बीच शत्रुता मिटेगी.’

उन्होंने मीडिया से कहा, ‘इमरान खान ने तीन महीने पहले जो बीज बोये थे वह अब एक पेड़ बन गया है. सिख समुदाय के लिए यह खुशी का पल है कि बाबा गुरु नानक का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए बिना किसी परेशानी के करतारपुर पहुंचने के लिए एक गलियारा मिल जाएगा.’ उन्होंने कहा कि गलियारा खुलने से 71 वर्षों का इंतजार समाप्त हो गया है. सिद्धू ने कहा, ‘करतारपुर गलियारा शांति का पथ साबित होगा.’ उन्होंने इसे ‘अनंत संभावनाओं वाला गलियारा’ करार दिया और कहा कि ऐसी पहलों से (दोनों देशों के बीच) शांति को बढ़ावा मिलेगा.

दोनों देशों के बीच क्रिकेट संबंध बहाली के बारे में पूछे जाने पर सिद्धू ने कहा, ‘दोनों देशों में ऐसे कई कलाकार और क्रिकेटर हैं जिन्हें सभी प्यार करते हैं और भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच होने चाहिए.’ उन्होंने कहा, ‘इमरान खान, वसीम अकरम और जावेद मियांदाद के भारत में कई प्रशंसक हैं. इसी तरह से पाकिस्तान में शाहरुख और सलमान खान के काफी प्रशंसक हैं.’ उन्होंने कहा, ‘धर्म को राजनीति की आंखों से नहीं देखा जाना चाहिए.’

जानिए मूली खाने से सेहत पर पड़ने वाले 7 फायदे

ऐसा कहा जाता है कि सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने वहां अपने जीवन के 18 वर्ष से अधिक समय बिताया था. करतारपुर साहिब गुरुद्वारा रावी नदी के किनारे स्थित है.

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password