शिक्षा है नारी का अधिकार

शिक्षा ही नारी का जन्मसिद्ध अधिकार हें हर एक स्त्री को पढने का अधिकार है आज जहा दुनिया इतने आगे पहुच गई है वही कुछ ऐसे ग्रामीण शेत्र अभी भी है जहा लडकियों की शिक्षा को रोक दिया जाता है जहा आज कल लड़के लडकिया एक साथ मिलकर काम करते है वही कुछ छोटो छोटे गावो में अभी भि लडकियों की शिक्षा को लेकर गावो में उनके सपनो को देखने से पहले ही उन सपनो को शादी के मंडप में दफ्नाह दिए जाते है जहा लड़के लड़किया अपने देश के सामान गोरव को बड़ा रहे है वही आज भि कुछ गावो में लड़के लडकियों को लेकर भेदभाव किये जाते है जहा लडको की शिक्षा के ऊपर माँ बाप लाखो पैसे खर्च कर देते है वही लडकियों की शिक्षा के लिए उनके पास पेसे नहीं होते है कुछ बेटे गलत भि करे तो भि बाप के लिए परिवार वालो के लिए प्यारे होते है और लडकियों को बोज समझा जाता है आज कल लड़का हो या लड़की हो सभी को शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार है क्योकि आज कल लडकिया भि हर शेत्र में अपने देश का अपने माता पिता का नाम रोशन कर रही है धीरे धीरे जहा शेहरो में लडकिया पढकर अपने देश का नाम रोशन कर रही  है वही धीरे धीरे गावो में लडकिया अपने अधिकारो के लिए संघर्स कर आगे बड रही है गावो में रहने वाली लडकियों भि अब लोगो की सोच को बदल रही है हर कदम कदम पर अपने अधिकारो की लड़ाई लड़के लोगो को शिक्षा का महत्व समझा रही है की शिक्षा सिर्फ लडको के लिए नहीं है शिक्षा सबका अधिकार है जिस तरह नन्ही चीटी जब दाना लेकर चद्ती है चधाती दीवारों पर सो फिसलती है चदकर  गिरना गिरकर चड़ना नहीं अखरता है

आखिर उसकी मेहनत बेकार नहीं जाती और वो कभी हार नहीं मानती है बार बार उस दिवार पर चद्ती है और बार बार गिरने के बाद भि वो हार नहीं मानती है सिर्फ वो उस लड़ाई को लडती रहती है और आखिर कार वो दाना लेकर उस दिवार पर चढ़ जाती है वो हार मानकर या मुस्सिबत को देखकर अपना रास्ता नहीं बदलती है बल्कि संगर्स करती रहती है और अंत में वो दिवार पर चढ़ जाती है उसी तरह लडकियों को भि हार नहीं मानना चाहिए अपने अधिकारो के लिए निरंतर संगर्स करते रहना चाहिए हर नारी का अधिकार है शिक्षा को प्राप्त करना और अपने देश के लिए कुछ एसा कर दिखाना की पूरी दुनिया उन पर गर्व करे और उन लडकियों को देखकर ताकी ग्रामीण शेत्र के लोगो की ये छोटी सोच बदल सके और आपकी शिक्षा और होसले को देख और भि लडकियों को अपना शिक्षा का आधिकार मिल सके और अपने अधिकारो के लिए संगर्स कर सके और जीवन में और को भि शिक्षा प्रदान कर अपने अधिकारो की लड़ाई में जित हासिल कर सके तो फिर सोचना क्या है बस अपने शिक्षा के आधिकारो को पाने के लिए जुट जावो संगर्स करोगे तो सफलता जरुर मिलेगी जब एक नन्ही ही चीटी दाना लेकर दिवार पर चढ़ सकती है बार बार गिरने के बाद भि हार नहीं मानती है तो हम तो इन्सान है हमारे साथ तो हमारा होसला और खुद पर भरोसा है तो हम हमारे अधिकारों को जरुर हासिल कर सकते है और लोगो की सोच को बदल सकते है तो फिर हम किसका इंतजार कर रहे है कोई आकर हमारी लड़ाई नहीं लडेगा हमें ही हमारी लड़ाई के लिए पहला कदम उठाना पड़ेगा तभी हम लोगो की सोच को बदल सकते है और शिक्षा का अधिकार प्राप्त कर सकते है ओशो की बायोपिक पर काम रोख कर अब महाभारत में ‘कृष्ण’ बनेंगे आमिर खानजिस तरह हमारे देश के आदरणीय प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी जी ने स्वच्छता अभियान को चलाकर हमारे देश को स्वच्छ बनाने के लिए कदम उठाया और आज उनकी इस एक पहल ने पूरी दुनिया को उनके साथ जोड़ दिया और उनकी इसी मेहनत और संगर्स के करण आज हमारा देश स्वच्छ ओर सुन्दर बनता जा रहा है उसी तरह अपने शिक्षा के अधिकारो के लिए आप पहल तो करो एक कदम आगे तो बदवो फिर तो सब आपका साथ देने लग जायेगे बस हार मत मानो अपने अधिकारो के लिए संगर्स करते रहोगे तो आपसे आपका शिक्षा पाने का आधिकार उसे हासिल कर आगे बदने का आधिकार कभी कोई नहीं छीन पायेगा क्योकि एक नारी में बहुत शक्ति होती है वो चाहे जो कर सकती है बस खुद पर विस्वास होना चाहिए क्योकि शिक्षा है नारी का आधिकार और अपने अधिकारो के लिए स्वयं को ही आगे बडना होगा एक कदम आपका आपके साथ पूरी दुनिया को जोड़ देगा साथ ही साथ एसी कही लडकियों को पढ़ाने का मोका आपकी वजह से मिलेगा जो अपने लिए कुछ करके भि कुछ नहीं कर पा रही है एसी कही लडकियों को शिक्षा का अधिकार दिला सकता है आपका एक कदम एक और आपके इस एक कदम से कही लोगो की सोच को बदला जा सकता है क्योकि शिक्षा है हर नारी का आधिकार है

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password