लंदन में बना इंसानी दिमाग जैसा दुनिया के सबसे बड़ा कम्प्यूटर एक सेकंड में मानेगा 20 हजार करोड़ कमांड

लंदन में बना इंसानी दिमाग जैसा दुनिया के सबसे बड़ा कम्प्यूटर एक सेकंड में मानेगा 20 हजार करोड़ कमांड

लंदन में बना इंसानी दिमाग जैसा दुनिया के सबसे बड़ा कम्प्यूटर एक सेकंड में मानेगा 20 हजार करोड़ कमांड

इंसानी दिमाग की तरह काम करने के लिए बनाए गए दुनिया के सबसे बड़े और पहले सुपर कम्प्यूटर ने रविवार को काम करना शुरू कर दिया है। ब्रिटेन के यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर के वैज्ञानिकों द्वारा बनाए गए इस सुपर कम्प्यूटर को बनाने में 141.38 करोड़ रुपए की लागत आई है। 2006 में इसे बनाना शुरू किया गया था। यह कंप्यूटर सिर्फ एक सेकंड में 20 हजार करोड़ से ज्यादा कमांड एक बार में कर सकता है। इसके प्रोसेसर में लगी चिप्स में 100 अरब ट्रांजिस्टर हैं। इस कंप्यूटर के जरिए वैज्ञानिकों को न्यूरोलॉजी से संबंधित बीमारियों की पहचान और उसके इलाज में मदद मिलेगी।

चूहे से आया आइडिया कि इसमें इंसानी दिमाग की हलचल कैसे नापें

प्रोफेसर स्टीव फरबेर बोले- हमें ये आइडिया चूहे की दिमागी हलचल देखकर आया। चूहे के दिमाग में लगभग 100 अरब न्यूरॉन्स होते हैं और मानव मस्तिष्क उससे 1,000 गुना बड़ा होता है। एक अरब न्यूरॉन्स मानव मस्तिष्क के 1% है, जिसमें केवल 100 अरब मस्तिष्क कोशिकाएं या न्यूरॉन्स होते हैं। तो अब आप सोचिये 100% इस्तेमाल करने के लिए और कितने सालो की म्हणत लगेगी.

12 साल की कड़ी मेहनत के बाद बना

  • सुपर कंप्यूटर की इस मशीन को ‘स्पिननेकर’ नाम दिया गया है। इस प्रोजेक्ट के मुखिया स्टीव फरबेर का कहना है कि यह मशीन दुनिया की अब तक की सबसे तेज और नियत समय में सबसे अधिक बायोलॉजिकल न्यूरॉन्स की नकल कर सकती है।
  • उन्होंने बताया कि कम्प्यूटर में बहुत सी ऐसी चीजें करने में मुश्किल होती है, जो इंसान स्वाभाविक रूप से कर लेते हैं। नवजात शिशु भी अपनी मां को पहचान लेते हैं लेकिन किसी खास व्यक्ति को पहचानने वाला कम्प्यूटर बनाने का काम हमने संभव कर दिखाया।
  • उन्होंने कहा कि अब हम दिमागी क्रिया को आसानी से पहचान सकते हैं। मैं अब यह कह सकता हूं कि हम 12 सालों की मेहनत और कोशिशों में कामयाब रहे हैं और हमारा उद्देश्य पूरी तरह सफल रहा।
  • इस परियोजना से जुड़े प्रोफेसर हेनरी मार्कराम कहते हैं कि इंसान का दिमाग इतना खास क्यों होता है? ज्ञान और व्यवहार के पीछे का मूल ढांचा क्या है? दिमागी बीमारियों का इलाज कैसे किया जाए सुपर कम्प्यूटर के जरिए हम अब इन सभी उपायों का आसानी से विश्लेषण कर सकते हैं।

एक दिन में जीतीं 3 लॉटरी, 36 करोड़ रुपए का इनाम मिला, जानिए कहा और किसे मिला…

अगर इसी तरह हम लोग तरक्की करते रहे तोह जल्द ही शायद हम कंप्यूटर के बिना अपना काम ठीक तरह से कभी ना कर पाए.

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password