तेलंगाना कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बने अजहरुद्दीन, संदीप दीक्षित बने राष्ट्रीय सचिव

आपको बता दे की तेलंगाना चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपनी रणनीतियों को तेज कर दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन को तेलंगाना का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया है. वहीं संदीप दीक्षित को ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी का सचिव बनाया गया है. 2019 का चुनाव अजहरुद्दीन ने अपने गृह प्रदेश तेलंगाना से लड़ने की इच्छा जताई थी. इससे पहले वह 2009 में यूपी के मुरादाबाद से चुनाव लड़ चुके हैं और जीत हासिल कर संसद भी पहुंचे थे. हालांकि 2014 में उन्होंने राजस्थान के टोंक सवाई माधोपुर से लोकसभा का चुनाव लड़ा था लेकिन यह चुनाव वह हार गए थे. वहीं संदीप दीक्षित दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे हैं और सांसद रहे हैं. जून 2017 में, उन्होंने भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत को सड़क का गुंडा कहा था. उनके इस बयान पर बहुत हंगामा हुआ था और कांग्रेस को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. तेलंगाना में कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों को अपने पाले में करने की कोशिशें तेज कर दी हैं. क्योंकि वहां के. चंद्रशेखर राव की टीआरएस मजबूत है. राहुल गांधी ने तेलंगाना चुनाव में पकड़ मजबूत करने के लिए पार्टी में कुछ फेरबदल किए हैं. मोहम्मद अजहरुद्दीन का कांग्रेस का कार्यकारी अध्यक्ष बनना इसी कड़ी का हिस्सा है. कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणापत्र में अल्पसंख्यकों को लुभाने के लिए कई वादे किए हैं क्योंकि तेलंगाना में मुस्लिमों की आबादी 12.5 फीसदी है और 42 विधानसभा सीटों पर हार जीत तय करने में मुस्लिम अहम भूमिका निभाते हैं. गौरतलब है कि तेलंगाना में 119 विधानसभा सीट हैं.

तेलंगाना कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बने अजहरुद्दीन, संदीप दीक्षित बने राष्ट्रीय सचिव

आपको बता दे की तेलंगाना चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपनी रणनीतियों को तेज कर दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन को तेलंगाना का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया है. वहीं संदीप दीक्षित को ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी का सचिव बनाया गया है.

2019 का चुनाव अजहरुद्दीन ने अपने गृह प्रदेश तेलंगाना से लड़ने की इच्छा जताई थी. इससे पहले वह 2009 में यूपी के मुरादाबाद से चुनाव लड़ चुके हैं और जीत हासिल कर संसद भी पहुंचे थे. हालांकि 2014 में उन्होंने राजस्थान के टोंक सवाई माधोपुर से लोकसभा का चुनाव लड़ा था लेकिन यह चुनाव वह हार गए थे.

वहीं संदीप दीक्षित दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे हैं और सांसद रहे हैं. जून 2017 में, उन्होंने भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत को सड़क का गुंडा कहा था. उनके इस बयान पर बहुत हंगामा हुआ था और कांग्रेस को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था.

तेलंगाना में कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों को अपने पाले में करने की कोशिशें तेज कर दी हैं. क्योंकि वहां के. चंद्रशेखर राव की टीआरएस मजबूत है. राहुल गांधी ने तेलंगाना चुनाव में पकड़ मजबूत करने के लिए पार्टी में कुछ फेरबदल किए हैं. मोहम्मद अजहरुद्दीन का कांग्रेस का कार्यकारी अध्यक्ष बनना इसी कड़ी का हिस्सा है.

छत्तीसगढ़ में EVM को लेकर सही निकली कांग्रेस की शिकायत, तहसीलदार को किया सस्पेंड

कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणापत्र में अल्पसंख्यकों को लुभाने के लिए कई वादे किए हैं क्योंकि तेलंगाना में मुस्लिमों की आबादी 12.5 फीसदी है और 42 विधानसभा सीटों पर हार जीत तय करने में मुस्लिम अहम भूमिका निभाते हैं. गौरतलब है कि तेलंगाना में 119 विधानसभा सीट हैं.

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password