खुशियों का पर्व दीपावली

दीपावली हिन्दुओ का प्रमुख त्यौहार है यह त्यौहार कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है यह शरद ऋतू के आगमन का समय रहता है दीपावली का त्यौहार भगवान राम के द्वारा रावण का वध करने और भगवान राम के अयोध्या लोटने की ख़ुशी में मनाया जाता है इस तीथी को पुरे अयोध्यावासियो ने पूरी अयोध्या नगरी को दीपो से प्रकाशित कर दिया था दीपावली का त्यौहार पांच दिनों का होता है धनतेरस,रुपचोदस, दीपावली ,गोरधन पूजा , भाई दूज सम्मिलित है

फिल्मफेयर अवॉर्ड की हैट्रिक लगाने वाली मशहूर गायिका अनुराधा पौडवाल को हैप्पी बर्थडे

वैश्य एवं व्यापारी लोग इस दिन आगामी फसल की खरीद तथा व्यापार की समृद्‌धि हेतु अपने तराजू, बाट, व बही-खाते तैयार करते हैं तथा ऐश्वर्य की प्रतीक देवी ‘लक्ष्मी’ की श्रद्‌धापूर्वक पूजा करते हैं । इसी प्रकार बंगाली एवं दक्षिण प्रदेशीय लोगों की इस त्योहार के संदर्भ में मान्यताएँ भिन्न हैं ।

यह त्योहार हिंदुओं के लिए विशेष महत्व रखता है । त्योहार के लगभग एक सप्ताह पूर्व ही इसके लिए तैयारियाँ प्रारंभ हो जाती हैं । इसमें सभी लोग अपने घरों, दुकानों की साफ-सफाई व रंग-रोगन आदि करते हैं । इसके अतिरिक्त विभिन्न प्रकार की कलाकृतियों व साज-सज्जा के द्‌वारा घर को सजाते हैं । इस प्रकार वातावरण में हर ओर स्वच्छता एवं नवीनता आ जाती है ।

दीपवली का त्योहार खुशियों का त्योहार है । इस दिन सड़कों, दुकानों, गलियारों सभी ओर चहल-पहल व उल्लास का वातावरण दिखाई देता है । सजी-धजी दुकानों पर रंग-बिरंगे वस्त्र पहने हुए लोग बड़े ही मनोहारी लगते हैं । व्यापारीगण विशेष रूप से उत्साहित दिखाई देते हैं । सायंकाल सभी घरों में लक्ष्मी व गणेश की पूजा की जाती है । अधिक धुआँ छोड़ने वाले तथा भयंकर शोर करने वाले पटाखों को छोड़कर खुश होने की घातक परंपरा को भी अब विराम देने की आवश्यकता है । हम सबका यह नैतिक कर्तव्य है कि हम इन कुरीतियों से स्वयं को दूर रखें ताकि इस महान पर्व की गरिमा युग-युगांतर तक बनी रहे ।

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password