किसी ने 56 तो किसी ने 34 साल निभाया साथ, देखें बंद होने वाली फेमस कारों की लिस्ट

टाटा मोटर्स ने भारत में अपनी इंडिका का प्रोडक्शन बंद कर दिया है। बता दें इंडिका का भारत में करीब 20 साल पहले प्रोडक्शन शुरू हुआ था और यह तभी से ही भारतीय सड़कों पर देखी जा रही है। भारतीय बाजार में हैचबैक सेगमेंट में इसकी काफी हिस्सेदारी रही है। भारतीय बाजार में सिर्फ इंडिका ही ऐसी गाड़ी नहीं है जिसे लंबे समय बाद बंद किया गया है। इससे पहले भी कई गाड़ियां ऐसी हैं जिनका प्रोडक्शन 50 वर्षों बाद बंद किया गया। आज हम आपको अपनी इस खबर में उन्हीं कारों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका प्रोडक्शन कई दशकों तक हुआ और अभी भी हो रहा है।

आँखों को पूरी तरह बर्बाद कर देती है आपकी एक गलती, जो आप रोज करते हैं

  1. हिन्दुस्तान एम्बेस्डर (1968-2014) – 56 वर्षों का रहा सफर

भारत में एम्बेस्डर कार को हर कोई जानता ही है। भारत मे इस कार का सफर सबसे लंबा रहा है। हाफ सेंचुरी से भी ज्यादा चली इस कार में हर नेता सफर करना पसंद करते थे। इतना ही नहीं इस कार को लोगों ने टैक्सी के तौर पर भी इस्तेमाल किया है। वर्ष 2014 में इस कार का प्रोडक्शन बंद कर दिया गया और बता दें इस कार का सफर देश में अब तक का सबसे लंबा सफर रहा है।

  1. प्रीमियर पद्मिनी 1100 (1964-1998) – 34 वर्षों का रहा सफर

एम्बेस्डर की टक्कर पर प्रीमियर पद्मिनी भी भारत में मौजूद थी। यह फिएट 1100 डिलाइट का वर्जन था जो 1964 से बिक्री के लिए उपलब्ध हुआ था। प्रीमियर ऑटोमोबाइल ने 1100 का प्रोडक्शन लिमिटेड शुरू किया, जिसे पहले प्रेजिडेंट कहा जाता था और फिर पद्मिनी नाम दिया गया। 1980 के दशक में यह कार सबसे ज्यादा पॉपुलर हुई थी और इसका काला-पीला अवतार मुबंई की हर सड़कों पर देखा जाता था।

  1. मारुति ओम्नी (1984 से अब तक) – 34 वर्षों से अब तक

मारुति ओम्नी का सबसे पहले प्रोडक्शन 1984 में हुआ और उस समय से यह कार वैन नाम से फैमस होने लगी कि आज भी लोगों के मूंह से मारुति ओम्नी के लिए वैन ही कहा जाता है। तीन दशकों बाद आज भी मारुति ओम्नी की डिमांड उतनी ही है जितनी पहले हुआ करती थी। 5-सीट और 8-सीट वर्जन के साथ मारुति ओम्नी की कीमत 3.35/3.36 लाख रुपये (ऑन रोड, मुंबई) है।

  1. मारुति जिप्सी (1985 से अब तक) – 33 वर्षों से अब तक

भारत में सबसे पॉपुलर 4×4 जिप्सी लगभग हर युवाओं की पसंद बनी हुई हैं। इतना ही नहीं भारतीय सेना भी जिप्सी का इस्तेमाल काफी समय से करती आ रहे हैं। मारुति सुजुकी भी अपनी बड़ी रैलियों में ऑप-रोडर सुजुकी जिप्सी का इस्तेमाल करते हैं। सुजुकी ऑफ-रोडर भारत में अभी भी बिक्री के लिए उपलब्ध है और इसकी कीमत 7.02 लाख रुपये और 7.18 लाख रुपये (ऑन-रोड मुंबई) है।

  1. मारुति 800 (1986-2014) – 28 वर्षों का रहा सफर

भारती बाजार में मारुति सुजुकी की सबसे फेमस और पहली पसंद यही कार थी। इतना ही नहीं 25 साल पहले तक अगर किसी के घर में मारुति 800 आ जाती थी तो लोग दूर दूर से इसे देखने आते थे। ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी यह कार सड़कों पर दौड़ती दिखाई देती है।

  1. टाटा सुमो (1994 से अब तक) – 24 वर्षों से अब तक

बॉक्सी शेप वाली टाटा सुमो आज भी लोगों की पसंद है। भारतीय कार बाजार में इसे 24 साल हो चुके हैं। इसकी कीमत 8.68 – 9.44 (ऑन-रोड मुंबई) है। कमर्शियल तौर पर लोग इसका काफी इस्तेमाल करते हैं।

  1. टाटा सफारी (1998 से अब तक) – 24 वर्षों से अब तक

टाटा मोटर्स की एसयूवी टाटा सफारी भारत में 2000 से पॉपुलर होना शुरू हुई। समय-समय पर इसमें कई बदलाव होते गए हैं। यह कार टर्बो-डीजल इंजन के चलते इलेक्शन के समय राजनेताओं की पसंदीदा कार रहती है। इसकी कीमत 13.54 लाख से 15.94 लाख रुपये (एक्स शोरूम दिल्ली) है।

  1. टाटा इंडिका (1998 – 2018) – 20 वर्षों का सफर

इंडिका को सबसे पहले 1998 ऑटो एक्सपो में पेश किया गया था और उस समय इटेलियन डिजाइन के साथ इंडिका को काफी प्रतिक्रियाएं मिली। भारतीय बाजार में लॉन्च होने के बाद यह हैचबैक सेगमेंट की लीडर थी। हालांकि कुछ वर्षों से बिक्री में लगातार आ रही गिरावट के चलते कंपनी को इस कार का प्रोडक्शन बंद करना पड़ा।

  1. महिंद्रा बोलेरो (2000 से अब तक) – 18 वर्षों से अब तक

महिंद्रा की फेमस एसयूवी और मल्टी-पर्पज यूटिलिटी व्हीकल ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी सबसे ज्यादा खरीदी जाती है। इन्हीं क्षेत्रों में बोलेरो आज भी एक सफल कार साबित होती है। इसी को देखते हुए कंपनी भी इसे समय-समय पर अपडेट करती गई है। इसकी कीमत 7.78 लाख रुपये (ऑन रोड दिल्ली) है।

  1. मारुति वर्सा/ईको (2001 से अब तक) – 17 वर्षों से अब तक

मल्टी पर्पज व्हीकल सेगमेंट में मारुति ने अपनी वर्सा को 17 साल पहले लॉन्च किया था जिसे अब बाजार में मारुति ईको नाम से जाना जाता है। करीब 9 वर्षों तक इसकी बिक्री सबसे ज्यादा रही और बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने भी इसका समर्थन किया। हालांकि, अब लोग इसे अपने कमर्शियल इस्तेमाल के लिए सबसे ज्यादा खरीदने लगे हैं।

 

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password