असहिष्णुता एक भ्रम

भारत देश हमेशा से ही सहिष्णु रहा हें | सदियों से अतिथि देवो भव: की परंपरा हमारे यहाँ रही हें और आज भी यह जारी हें | हमारी संस्कृति केसी हें यह हमारे वेदो में लिखा हें | जिसको हिन्दू धर्म के बारे में थोडा बहुत भी ग्यान हें वह भली भांति जनता हें की हिंदुस्तान की परंपरा क्या हें | भारत कभी भी असहिष्णु नही रहा हें | लेकिन एक राजनेतिक पार्टी हें कांग्रेस जिसको लगता हें की मोदी सरकार आने के बाद भारत असहिष्णु हो गया हें और इस शब्द को इतना फेलाया गया की अन्तराष्ट्रीय मिडिया का ध्यान इस पड़े और मोदी सरकार को बदनाम किया जा सके लेकिन उनको देश की छवि से कोई लेना देना नहीं हें | उनका इतिहास रहा हें और हमेशा देश विरोधी कार्य के प्रति उनकी जिज्ञासा रही हें केसे भी करके देश की सत्ता पर राज करना बस यही मकसद रहता हें | और एक कांग्रेसी अवार्ड वापसी गैंग ने उनका बखूबी साथ दिया ये वो लोग थे जिनको अवार्ड कांग्रेस के तलवे चाटने के लिया दिया गया था | लेकिन कहते हें की सत्य की हमेशा जित होती हें और आखिर कर उनको कमज़ोर होना पड़ा| हमारे यहाँ तो एक आतंकवादी के लिए रात में सुप्रेम कोर्ट में कार्यवाही शुरू हो जाती हें इस से बड़ा सहिष्णुता और क्या होगी | कांग्रेस को समझाना चाहिए और कम से कम देश की छवि ख़राब करने से बचाना चाहिए | जब वह सत्ता में होते हें तो घोटाले करते हें और देश का दीवाला निकाल देते हें और जब विपक्ष में होते हें तो तरह तरह से सरकार और देश को बदनाम करने की साजिश करते हें | यह देश के साथ गद्दारी ही होगी और इस से बाज़ आना चाहिए | और देश के सोहार्द और मान सम्मान के प्रति कार्य करना चाहिए | क्योकि देश हें तो सब कुछ हें वर्ना क्या हें

इसलिए देश हित सवो पारी होना चाहिए |

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password